सबसे शक्तिशाली वशीकरण मंत्र | VASHIKARAN MANTRA

0
161
vashikaran mantra

सर्व वशीकरण मंत्र

मंत्र | ॐ नमः सर्व लोक वशं कराय कुरु कुरु स्वाहा !

विधि | इस मंत्र को १ लाख बार जप करके सिद्ध करना होगा।

प्रयोग विधि | पुष्य नक्षत्र मे साटोडी की जड़ को सात बार मंत्रित कर निकालकार हाथ पर बांधनेसे सर्व प्राणी वशीभूत होंगे।

स्त्री वशीकरण मंत्र

मंत्र | ॐ नमः कामाख्या देवी अमुकं मे वशं करी स्वाहा ॥

विधि | पेहले माता कामाख्या स्मरण करे। उसके बाद इस मंत्र को रविवार के दिन रात को लगभग १ गंते तक जप करे। एसा करने से मंत्र सिद्ध होगा।

प्रयोग विधि | रविवार के दिन ब्रह्मदंडी ओर समशान की भस्मको इस मंत्रसे १०८ बार मंत्रित करके जिस स्त्री के ऊपर डालने मे आए तो वह स्त्री वश हो जाती हे।

राजा वशीकरण मंत्र

मंत्र | ॐ नमो भास्कराय त्रिलोकात्माने अमुक महीपति मे वश्यं कुरु कुरु स्वाहा ॥

विधि | इस मंत्र को किसी भी वक्त किसी भी दिन सिद्ध किया जा सकता हे। १०८ बार जपने से मात्र सिद्ध होगा।

प्रयोग विधि | इस मंत्र से केशर, रतांजली, कपूर और तुलसीके पत्ते को १०८ बार मंत्रित करके गाय के दूध मे घीस कर, कपाल पर तिलक करके राजा के पास जाने से वो तत्काल वश होते हे।

पति वशीकरण मंत्र

मंत्र | ॐ नमो महापाक्षिणी पति मे वश्यं कुरु कुरु स्वाहा ॥

यह मंत्र अपने आप मे एक सिद्ध मंत्र हे। इसे सिद्ध करने की आवश्यकता नहीं हे।

प्रयोग विधि | इस मंत्र से गोरोचन और अपने शरीर का मैल केले के वृक्ष के रसमे मिलाकर १०८ बार मंत्रित करके जो स्त्री कपाल पर तिलक करे तो उसका पति वश होता हे।

मोहन मंत्र

मंत्र | ॐ ह्री काली कपालिनी धोर नादिनी विश्वमोहय, नृपान्मोहय, सर्व मोह्य-सोह्य, ठ, ठ, ठ, स्वाहा ॥

विधि | इस उक्त मंत्र को रात के १० बजे १००८ बार जपने से सिद्ध होता हे।

प्रयोग विधि | सफ़ेद चनोठी और उत्कंटा की जड़को पीस कर शरीर पर लेप करके घूमनेसे सर्व जगत मोहित होता हे।

आकर्षण मंत्र

मंत्र | ॐ नमः आदि पुरुषाय अमुक कुरु कुरु स्वाहा ॥

विधि | इस मंत्र के १०८ बार जाप करके सिद्ध करना पड़ेगा

प्रयोग विधि | अनामिका उंगली के खून से भोजपत्र पर जिस व्यक्ति का नाम लिखकर शहद के अंदर रखनेमे आए तो उसका आकर्षण होता हे। यह प्रयोग बहोत ही चमत्कारिक ओर तत्काल असर दिखानेवाला मंत्र हे

 सुपारी वशीकरण मंत्र

मंत्र | ॐ नमो भगवते वासुदेवाय त्रिलोचनाय त्रिपुरवाहनाय……अमुकमं मम वश्य कुरु कुरु स्वाहा ॥

विधि | इस मंत्र को सिद्धि योगमे १००० बार जपसे सिद्ध करे।

प्रयोग विधि | एक सुपारी अभिमंत्रित करके जिसको खिलाने मे आए वश होता हे।

चनोंठी वशीकरण मंत्र

मंत्र | ॐ नमो भगवती मातंगेश्वरी सर्व मुख रंजने सर्वेश्वरी महामाये मातंगी कुमारीकेनन्द नन्द जिह्वे सर्व लोक वशं करी स्वाहा ॥

विधि | ग्रहण के दिन पेहले इसे १०८ बार जप से सिद्ध करे।

प्रयोग विधि | ग्रहण के दिन सफ़ेद चानोथी की जड लाकर ३२५ बारभिमंत्रित करके पान मे जिसे खिलया जाए वो वश होता हे, मरते दम तक कभी अलग नहीं होते।

पुष्प वशीकरण मंत्र

मंत्र | ॐ चामुंडे जय जय वशं करी जय जय सर्व सत्य स्वाहा ॥

विधि | ग्रहण के दिन यह मंत्र की १०८(१ माला मे १०८ जप होते हे) माला करके सिद्ध करे।

प्रयोग विधि | कोई भी फूल को मंत्रित करके जिसे खिलाया जाए या जिसके मस्तिस्क मे फेंका जाए वो वश मे आजाता हे।

स्त्री-पुरुष प्रेम बंधन मंत्र

मंत्र | ॐ पति प्रियाय पद्मावती स्वाहा ॥

विधि | इस मंत्र को प्रतिदिन १०८ बार जप करना। एसे जब एक लाख जप पूरे होंने तब दशांश हवन करना। पति-पत्नी के बीच प्रेम बढ़ेगा, वैवाहिक जीवन सुखमय व्यतीत होगा।

नाम वशीकरण

मंत्र | ॐ ऐं ह्री स्वाहा ॥

विधि | इस मंत्र सिद्धिके लिए ७२००० जप कर दशांश हवन करे। और जिसे वश करना हो उसका नाम ले। तो वो वश हो जाएगा, जब तक आपको देखेंगा नहीं तब तक वो बेचैन फिरेगा।

सभा मोहिनी मंत्र

मंत्र | राय सीर सीम सामाहुला धौली दुव गंगा वैहै फटी अंगे मरदन कीजे ताते पानी न्हावरे, मस्ताके तिलक कर कैसरी को राज द्धारे जावे रे, देखि सभा सबको मोहे मोही वैभावे रे ॥

विधि | इस मंत्र को १०८ बार जप करके सभामे जानेसे खूब मान-पान मिलता हे, दूश्मन भी वश मे आते हे ओर और किर्ति बढ़ती हे।

जल-वशीकरण

मंत्र | ॐ पिशाचरु रुपिध्य लिंग परिचूम्बयेत् नागविसी सिंचायेत ॥

विधि | उक्त मंत्र का काली चौदस की रात १०८ बार जप करे तो सिद्ध होता हे।

प्रयोग विधि | यह मंत्र से पनि मांत्रिक करके जिसे भी पिलाया जाए वह वश हो जाता हे।

तिलक वशीकरण

मंत्र | ॐ ऐं ह्रीं श्रीं क्रीं कालीके सर्वान् मन वश्यमं कुरु कुरु सर्वमान मे साधया ॥

विधि | उक्त मंत्र को कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन उपवास रख कर दस हजार जप करे तो सिद्ध होता हे।

प्रयोग विधि | सिद्ध करने के बाद यह मंत्र को १०८ बार पढ़ के तिलक करे तो सर्व वश होता हे।

गुड वशीकरण

मंत्र | ॐ नमो आदेश गुरुको, गूगल धूप की धुआ, धार देखू पलमे शक्ति तरस रात्रिको, टुता तारा रेसा तुटा भैरव बापा, काल नगारा गुड मंत्र पढे उसको दे घरमे चक न बहार चक फिर फिर देखो हमारा मुख सेव जीव सेव जीवको मुवत सेवे मसाण हमसे आकुल व्याकुल, जती हनुमंत की आन, हमे छोड़ ओरके पास जाय पेट फाड़ तुरंत मर जाय। सत्यनाम आदेश गुरुका ॥

विधि | किसी भी शनिवारसे शुरू करे। २१ दिन तक हररोज १२० बार जप कर। कँसार का निवेध लगाए। एसा करने से मंत्र सिद्ध होता हे।

प्रयोग विधि | इस मंत्र को सात शनिवार तक जप करके गुड मंत्रित कर जिसे भी खिलाया जाए वह वश मे आ जाता  हे।

सुगंध वशीकरण

मंत्र | ॐ हूँ स्वाहा ॥

विधि | यह मंत्र को सोम प्रमोद के वक्त १००० बार जपने से सिद्ध होता हे।

प्रयोग विधि | मंत्र को सिद्ध करने के बाद किसी सुगंधित द्रव्य जैसे की इत्तर, तेल को अभिमंत्रित करके जिसे भी दिया जाए वह वशीभूत होता हे।

भोजन वशीकरण

मंत्र | ॐ नमो कट विकट धोरापिणी अमुकं मे वशमानय स्वाहा ॥

विधि | ग्रहण के समय इस मंत्र का दस हजार जप करने से सिद्ध होता हे।

प्रयोग विधि | इस मंत्र से भोजन(खाना) मंत्रित कर के जिसे भी खिलायाजाए वह वश हो जाता हे।

लौंग वशीकरण

मंत्र | ॐ नमो भगवती चामुंडे महा हृदय कंपिनि स्वाहा ॥

विधि | किसी भी मंगलवार के दिन इस मंत्र को १००८ बार जप करनेसे सिद्ध होता हे।

प्रयोग विधि | लौंग को १०८ बार मंत्रित करके जिसे भी खिलाया जाए वह अवश्य वश होता हे।

द्रष्टि वशीकरण मंत्र

मंत्र | ॐ नमः भगवती पुर पुर वेशनी पुरधी पतये सर्व जगदभंयंरिछी मै ॐ रंग रं रीं क्लीं वालोसल्पंचकाम बाण सर्व श्री समस्त नर नारी गणं मम वश्य नय नय स्वाहा ॥

विधि | इस मंत्र को आसो सुदी अष्टमी के दिन दस हजार जप करके सिद्ध कर लेना।

प्रयोग विधि | मंत्र को पढ़ के मुछ को ताव देते हुए जिसे भी देखा जाए वह वश होता हे।

पानी वशीकरण

मंत्र | ॐ ह्रीं नमो मोहिन्यै सर्वलोकान मे वशं कुरु कुरु स्वाहा ॥

विधि | काली चौदश के दिन धूप-दीप करके १०८ बार इस मंत्र का जप करने से सिद्ध होता हे।

प्रयोग विधि | इस मंत्र से पानी को २१ बार मंत्रित करके उस पानी से मुह को धोकर किसी के भी साथ बात करने से वह व्यक्ति वश हो जाती हे।

पुरुष वश करने का मंत्र

मंत्र | ॐ नमो आदेश गुरुको महा यक्षिणी पति मेव वश्यं कुरु कुरु स्वाहा; स्फूरों मंत्र ईश्वरी वाचा ॥

विधि | इस मंत्र को अपने आप मे सिद्ध मंत्र हे। फिर भी इस मंत्र को किसी भी दिन १०८ बार जप करना चाहिए।

प्रयोग विधि | इस मंत्र से को १०८ बार पढ़कर रजःस्वला स्त्री का रुधिर, गोरोचन और केल का रस, इन सब को एक साथ मिलाकर तिलक किया जाए तो पुरुष वश होता हे। यथाशक्ति दान करना।

सर्व वशीकरण मंत्र

मंत्र | ॐ राजा मोहे प्रजा मोहे ब्राह्मण वाणिया हनुमंत रूपमे जगत मोहा तो रामचन्द्र परमाणिया गुरुकी शक्ति मेरी भक्ति स्फूरों मंत्र ईश्वरी वाचा ॥

विधि | प्रथम रामचंद्र भगवान का १०८ बार स्मरण करे, घी का दिया जलाए और गूगल का धूप करे, फिर ३७ दिन तक हररोज १४१ बार मंत्र का जप करे। एस करने से मंत्र सिद्ध होगा।

प्रयोग विधि | जब जरूर हो तब चौराहे मे खड़ा रहकर इस मंत्र को ९ बार पढ़कर एक चुटकी धूल लेकर तिलक करे। जो भी देखेगा वह वश होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here